Drop Us An Email Any Enquiry Drop Us An Email info@e-webcareit.com
Call Us For Consultation Call Us For Consultation +91 9818666272

#1उत्तराखंड: अब जेब को लगेगा करंट, इस तारीख से आपका बिजली बिल कम से कम 15% बढ़ने वाला है!

electricity price hike

#1उत्तराखंड: अब जेब को लगेगा करंट, इस तारीख से आपका बिजली बिल कम से कम 15% बढ़ने वाला है!

पावर कॉरपोरेशन का कहना है कि वह महंगी बिजली नहीं खरीद सकता, इसलिए यह रकम लोगों यानी उपभोक्ताओं से वसूल की जाए। एक बार इस तर्क को लगभग एक महीने पहले खारिज कर दिया गया था, लेकिन अब इस तर्क के आधार पर बिजली की दर बढ़ने की पूरी संभावना है।

देहरादून।
उत्तराखंड में एक बार फिर बिजली लोगों को बड़ा झटका दे सकती है. उत्तराखंड पावर कॉरपोरेशन ने नियामक आयोग से बिजली के दाम बढ़ाने की अपील की है और बढ़ोतरी भी मामूली नहीं बल्कि 15 से 26 फीसदी रहने की उम्मीद है. अगर ऐसा होता है तो प्रदेश की जनता को दोहरी मार झेलनी पड़ सकती है क्योंकि मार्च महीने में ही राज्य में बिजली के रेट बढ़ा दिए गए थे और इस साल एक बार बिजली की मार आम का बजट बिगाड़ने को तैयार है. जनता। वो भी तब जब लोग पहले से ही महंगाई और टैक्स के बोझ तले दबे हैं.

प्रदेश में बिजली सप्लाई करने वाली यूपीसीएल को रोजाना 50 लाख यूनिट बिजली की जरूरत होती है, लेकिन सूरत-ए-हाल का कहना है कि अगर केंद्र से आने वाली बिजली को राज्य के साथ जोड़ दिया जाए तो यूपीसीएल को 30 लाख से 40 लाख यूनिट ही बिजली मिलती है. पाने में सक्षम है। खपत को पूरा करने के लिए यूपीसीएल बाजार से 8 से 10 रुपए प्रति यूनिट की दर से रोजाना 5 से 10 लाख यूनिट खरीद रही है। यूपीसीएल का कहना है कि इस पर बड़ा बोझ है। इस बोझ को कम करने के लिए यूपीसीएल ने एक बार फिर नियामक आयोग से बिजली के दाम बढ़ाने की मांग की है.
UPCL
बढ़ी हुई दरें 1 सितंबर से लागू होंगी!
वहीं यूपीसीएल की ओर से दी गई अपील पर नियामक आयोग ने काम शुरू कर दिया है और सूत्रों की माने तो इस बार प्रदेश के बिजली उपभोक्ताओं को बड़ा झटका लगना तय है. यानी अगर उपभोक्ता का बिजली बिल 500 रुपये आता है तो अब वही बिल 570 रुपये से ज्यादा होगा. नियामक आयोग के तकनीकी सदस्य एमके जैन ने कहा कि ये बढ़ी हुई दरें 1 सितंबर से लागू की जा सकती हैं.

इससे पहले जून माह के अंत में नियामक आयोग ने 1 जुलाई से बिजली दरें बढ़ाने की मांग को खारिज कर दिया था। 20 रुपये प्रति यूनिट, इसलिए यह वित्तीय बोझ लोगों पर डालना होगा, लेकिन आयोग ने तब कहा कि दरों में वृद्धि नहीं की जानी चाहिए। यह था कि दरें साल में एक बार से अधिक नहीं बढ़ाई जा सकती थीं। अब दूसरा फैसला आ सकता है क्योंकि निगम ने पुनर्विचार याचिका दायर की थी।


Leave a Reply

Get the Latest Update and news about around India or the world

Call Us On  Whatsapp
en English
X
%d bloggers like this: