Drop Us An Email Any Enquiry Drop Us An Email info@e-webcareit.com
Call Us For Consultation Call Us For Consultation +91 9818666272

#1 Uttarakhand: पहाड़ों की रानी की गोद में बसा ये है उत्तराखंड का पहला स्मार्ट गांव, जानिए कैसे बनें स्मार्ट

Uttarakhand's first smart village

#1 Uttarakhand: पहाड़ों की रानी की गोद में बसा ये है उत्तराखंड का पहला स्मार्ट गांव, जानिए कैसे बनें स्मार्ट

स्मार्ट सिटी की तर्ज पर विकसित किया जा रहा क्यारकुली भट्टा गांव

देहरादून- सरकार की विभिन्न योजनाओं के तहत इस गांव-पंचायत में जिम, फील्ड, स्कूल, अस्पताल, सड़क, लाइट जैसी सभी मूलभूत सुविधाएं पहुंच चुकी हैं. यह है क्यारकुली भट्टा गांव का स्थान – देहरादून से दूरी – 22 किमी, घरों की कुल संख्या – 7, कुल परिवार – 316, कुल जनसंख्या – 2600, ये बस्तियां हैं – बिरधर, बसगड़, नाग मंदिर, टुंधार, क्यारकुली, चोपडासर , भट्टा। हर घर को सड़क से जोड़ने के प्रयास, एक करोड़ दस लाख रुपये से सड़क निर्माण कार्य, हर घर में पानी, हर घर में नल, 45 लाख के प्रथम चरण के कार्य, गांव में स्ट्रीट लाइट, 15 हजार पौधे,- क्यारकुली गांव में सड़क के पास बेंच, पूरी तरह से भूमिगत नाली निर्माण कार्य।

पहाड़ों की रानी मसूरी की गोद में बसा क्यारकुली भट्टा गांव देहरादून से करीब 20 किमी की दूरी पर स्थित है। यह प्रमुख पर्यटन स्थल है। झील और भट्टा जलप्रपात इस ग्राम पंचायत से सटे हुए हैं। मसूरी का सबसे पौराणिक सर्प मंदिर भी इसी ग्राम पंचायत में स्थित है। यह एक कृषि प्रधान गांव है। यहाँ का स्वीट कॉर्न बहुत प्रसिद्ध है, जिसके कारण यहाँ का नाम भट्टा पड़ा। यही कारण है कि इस ग्राम पंचायत का नाम क्यारकुली भट्टा पड़ा। आज यह गांव एक स्मार्ट गांव की तरह दिखने लगा है। शहर जैसी सुविधाएं हैं। गांव के लोग भी खुश और संतुष्ट नजर आते हैं, लेकिन कुछ साल पहले तक ऐसा नहीं था। गांव की तस्वीर बिल्कुल अलग थी। पीने का पानी तक नहीं था। गांव में सड़क नहीं थी, सफाई की कोई व्यवस्था नहीं थी। मूलभूत सुविधाओं के अभाव में लोग यहां पलायन करने लगे, लेकिन अब गांव की स्थिति पूरी तरह से बदल चुकी है. यहां हर घर में नल है। सीवर लाइन और ग्रे-वाटर प्रबंधन को लेकर विशेष कार्य किया जा रहा है। गांव में मैदान, जिम और पंचायत घर का जीर्णोद्धार कर इसे आदर्श गांव बनाया जा रहा है। इसके साथ ही यह उत्तराखंड का पहला स्मार्ट गांव बनने जा रहा है। गांव की तस्वीर बदलने में पंचायती राज विभाग की बड़ी भूमिका होती है, इसलिए गांव के इस बदले हुए चेहरे में ग्राम प्रधान की भी बड़ी भूमिका रही है. गांव में पानी, सड़क, आंगनबाडी, अस्पताल व अन्य मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध होने से अब ग्रामीण वापस गांव लौट रहे हैं. इससे पूरा क्यारकुली भट्टा ग्राम पंचायत अब खुशहाल और विकसित नजर आ रही है।
Village Panchayat
क्यारकुली भट्टा ग्राम पंचायत में 7 घर हैं जिनमें 316 परिवार रहते हैं। गाँव की कुल जनसंख्या 2600 है। इसी पंचायत में गलोगी पावर हाउस स्थित है, जो भारत का पहला विद्युत ऊर्जा संयंत्र है। यह भारत में जलाया गया पहला बल्ब था। गांव में जल जीवन मिशन के तहत बसगड़ में 8 किमी लंबी लाइन बिछाते समय यहां इंटरली पंचायत से पानी लाया गया, जबकि बिरधार में 2 किमी लाइन बिछाकर अंजना खाला से पानी की व्यवस्था कराई गई. नाग मंदिर और चोपड़ासर में सड़क नहीं थी। ऐसे में इन दोनों जगहों पर सड़क निर्माण किया गया. क्यारकुली गांव के ऊपरी हिस्से को जोड़ने के लिए यहां सड़क बनाई गई थी। कुल 30 लाख खर्च किए गए। जिसमें मनरेगा से 20 लाख, विधायक निधि से 7 लाख, जिला पंचायत से 3 लाख खर्च किए गए। वहीं, 6 लाख एमडीडीए के साथ रेलिंग भी बनाई गई। यहां गांव में 12 लाख की लागत से नालियां बनाई गईं। हर घर में साफ पानी के तहत पानी की टंकी में हाइपोक्लोराइट मिलाने की व्यवस्था की गई। इस समय गांव में महिलाएं खुद पानी की जांच करती हैं। महिलाओं को फील्ड टेस्टिंग के लिए किट मुहैया कराई गई हैं। स्वच्छता पेयजल समिति समय-समय पर इसकी निगरानी करती है। इतना ही नहीं पहले चरण में उत्तराखंड के 75 और उत्तराखंड के 52 प्रमुख यहां जल परीक्षण का काम देखने आए हैं. साथ ही उन्होंने यह भी देखा कि कैसे यह ग्राम पंचायत जल जीवन मिशन के तहत काम कर रही है. इतना ही नहीं खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इस संबंध में यहां जल समितियों की बैठक के तहत सराहना की है। इस ग्राम पंचायत में 21 लाख की कृषि मशीनरी का वितरण किया गया है. जिससे ग्रामीणों के लिए खेती करना आसान हो सके। ग्राम सभा में स्वागत द्वार के अलावा पंचायती राज विभाग द्वारा जिम ग्रे-वाटर मैनेजमेंट, स्ट्रीट लाइट सहित अन्य कार्य किये जा रहे हैं. भट्टा गांव में पंचायत कोष से टिन शेड का निर्माण कराया गया। गांव के मानियाड (सांस्कृतिक स्थल) को चौड़ा कर दिया गया है। साथ ही इस गांव को आई एम विलेज के तहत चुना गया है। इस ग्राम पंचायत में हर्बल विभाग की ओर से दो हजार दालचीनी के पौधे लगाए गए हैं। बागवानी विभाग द्वारा खाद के गड्ढे बनाए गए हैं।

दो लाख की लागत से 45 परिवारों के लिए कम्युनिटी शॉक-पिट बनाए गए हैं। टुंधार से साढ़े तीन सौ मीटर लंबी सड़क बन रही है। पंचायती राज विभाग द्वारा 12 लाख रुपये की लागत से ग्रे-वाटर प्रबंधन का कार्य किया जा रहा है, जबकि 1.5 लाख रुपये की लागत से जिम तैयार किया जा रहा है। क्यारकुली टोक में 108 परिवारों को भूमिगत भूजल प्रबंधन से जोड़ा गया है। गांव में पर्याप्त पानी होने के कारण अब गांव वाले यहां अपना काम करने लगे हैं। अब तक गांव से पलायन कर चुके ग्रामीणों ने यहां फिर से अपना घर बना लिया है और अपने गांव में ही कुछ रोजगार करने लगे हैं। यहां ज्यादातर ग्रामीणों ने होम-स्टे बनाकर अपना रोजगार करना शुरू कर दिया है। जहां नए सिरे से स्कूल और आंगनबाडिय़ां बनाई गई हैं, वहीं अस्पतालों को भी सभी सुविधाओं से लैस किया गया है।

क्यारकुली भट्टा गांव को स्मार्ट गांव के रूप में विकसित करने की राह पर है, पंचायत राज विभाग द्वारा इस गांव को स्मार्ट गांव बनाने की प्रक्रिया जारी है. जल्द ही यह गांव उत्तराखंड का पहला स्मार्ट गांव बनकर तैयार होगा, जो अन्य गांवों के लिए प्रेरणा बनेगा। वहां

मंत्री, सचिव एवं निदेशक, जिलाधिकारी के निर्देश पर क्यारकुली भट्टा गांव में विभिन्न योजनाओं के तहत सभी सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं, ताकि यहां कोई पर्यटक आए तो उसे भी सभी सुविधाएं मिल सकें. स्मार्ट सिटी की तर्ज पर क्यारकुली भट्टा में स्मार्ट विलेज विकसित किया जा रहा है, जिसके तहत सीवर लाइन और ग्रे वाटर को मैनेज कर शॉक-पिट में बहाया जा रहा है। पंचायत राज विभाग द्वारा इस गांव को मैदान, जिम, पंचायत भवन का जीर्णोद्धार कर आदर्श गांव बनाने का कार्य किया जा रहा है. ज्यादातर काम इसी क्रम में हो चुका है और जल्द ही यह स्मार्ट गांव बनकर सबके लिए प्रेरणा का काम करेगा। -एमएम खान, जिला पंचायत राज अधिकारी

हमारी ग्राम पंचायत को स्मार्ट विलेज के रूप में चुना गया है। यह हमारे लिए खुशी की बात है। पहले यहां के घरों से खुले में बहने वाले पानी से निजात दिलाने के लिए ग्रे-वाटर पर काम किया गया है, जिससे यहां जलजनित बीमारियां कम हुई हैं। यहां पंचायती राज विभाग द्वारा ग्रे-वाटर प्रबंधन सहित सड़कें, जिम आदि का कार्य तेजी से किया जा रहा है। – कौशल्या देवी रावत, प्रमुख, क्यारकुली भट्ट

हमारे गांव की महिलाएं बहुत सक्रिय हैं। जो हर महीने गांव की सफाई करती है और पानी की जांच के लिए महिलाओं की टीम भी लगाती है. जो समय-समय पर पानी की सफाई का ख्याल रखता है। साथ ही हम पंचायती राज विभाग के मंत्री और सभी अधिकारियों को धन्यवाद देते हैं, जिन्होंने हमारे गांव को स्मार्ट गांव बनाने की दिशा में विशेष प्रयास किया. -राकेश रावत, ग्रामीण

गांव में अब तक पानी नहीं था, इसलिए हम कब से यहां घर नहीं बना पाए। लेकिन गांव में पानी आने से हम बहुत खुश हैं और हमने यहां अपना घर बनाना शुरू कर दिया है. -विमला, ग्रामीण

पहले हमारे घर तक कोई सड़क नहीं थी। ऐसे में निर्माण व अन्य सामग्री को पहले ट्रैक्टरों पर और फिर खच्चरों पर ले जाना पड़ा। जिसकी कीमत अधिक होती। सड़क निर्माण के बाद निर्माण व अन्य सामग्री सीधे घर पहुंचने लगी है। -बलवीर सिंह, ग्रामीण

गांव में खेल का मैदान नहीं था, जिसके लिए पंचायती राज विभाग द्वारा प्रयास किए जा रहे हैं। यहां स्कूल से लेकर अस्पताल, सड़क, सभी सुविधाएं बनाई गई हैं। इसके लिए स्थानीय जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों का बहुत-बहुत धन्यवाद। -सुमित्रा थप्लीक

पहले हमारे स्कूल में पानी की सुविधा नहीं थी, लेकिन अब स्कूल में पानी की भरमार है। हमें घर से बोतल लेकर जाने की भी जरूरत नहीं है। कुछ दिन पहले डीएम साहब भी हमारे गांव आए थे। उन्होंने मुझसे यहां की सुविधाओं के बारे में भी सवाल किए। -अदिति रावत


Leave a Reply

Latest News in hindi

Call Us On  Whatsapp