Drop Us An Email Any Enquiry Drop Us An Email info@e-webcareit.com
Call Us For Consultation Call Us For Consultation +91 9818666272

पीएम मोदी हुए भावुक, कहा- कोरोना से बीमार कई साथी अस्पताल से घर लौटे ही नहीं

PM Narendra Damodardas Modi

पीएम मोदी हुए भावुक, कहा- कोरोना से बीमार कई साथी अस्पताल से घर लौटे ही नहीं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को कोरोना टीकाकरण का शुभारंभ करते हुए देश को संबोधित करते हुए भावुक हो गए। उन्होंने कहा कि कोरोना युग के दौरान, हमारे कई सहयोगी ऐसे थे जो बीमार होने के बाद अस्पताल नहीं लौटे थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को कोरोना टीकाकरण का शुभारंभ करते हुए देश को संबोधित करते हुए भावुक हो गए। उन्होंने कहा कि कोरोना युग में, हमारे कई साथी ऐसे थे जो बीमार होने के बाद अस्पताल नहीं लौटे थे।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि संकट के एक ही समय में, निराशा के एक ही माहौल में, कोई व्यक्ति आशा का संचार भी कर रहा था, जिसने हमें बचाने के लिए अपना जीवन संकट में डाल दिया। ये लोग हमारे डॉक्टर, नर्स, पैरामेडिकल स्टाफ, एम्बुलेंस ड्राइवर, आशा कार्यकर्ता, सफाई कर्मचारी, पुलिस और अन्य पंक्ति के कार्यकर्ता थे। कोरोना से पीड़ित होने के बाद हमारे कई साथी अस्पताल नहीं लौटे। हम ऐसे सभी सहयोगियों को श्रद्धांजलि देते हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इस बीमारी ने लोगों को उनके घरों से दूर रखा। माताएँ बच्चों के लिए रो रही थीं, लेकिन वे अपने बच्चों के पास नहीं जा सकते थे। लोग अस्पताल में अपने घर के बुजुर्गों से नहीं मिल सकते थे, हमारे कई साथी जो इस बीमारी के कारण हमसे दूर चले गए, हम ऐसे लोगों का अंतिम संस्कार भी नहीं कर पाए।

दवाई भी, कड़ाई भी

पीएम मोदी ने कहा कि भारत का टीका, हमारी उत्पादन क्षमता मानवता के हित के लिए काम करे, यही हमारी प्रतिबद्धता है। यह टीकाकरण अभियान लंबे समय तक चलेगा, हमें लोगों के जीवन को बचाने में योगदान करने का मौका मिला है। टीकाकरण के दौरान और बाद में मास्क, 2 यार्ड और सफाई आवश्यक होगी। यदि टीका जगह में है, तो इसका मतलब यह नहीं है कि आप सुरक्षा के अन्य तरीकों को छोड़ दें। अब हमें एक नया व्रत लेना है – दवाई भी, कड़ाई भी

दो गज की दूरी और मास्क है जरूरी

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज जब हमने वैक्सीन बना ली है, तब भी भारत की तरफ दुनिया आशा और उम्मीद की नजरों से देख रही है. जैसे जैसे हमारा टीकाकरण अभियान आगे बढ़ेगा, दुनिया के अनेक देशों को हमारे अनुभव का लाभ मिलेगा. डीआरडीओ, इसरो और फौज से लेकर किसान और श्रमिक तक सभी एक संकल्प के साथ कैसे काम कर सकते हैं ये भारत ने दिखाया है. दो गज की दूरी और मास्क है जरूरी, पर फोकस करने वालों में भी भारत अग्रणी देशों में रहा.


Leave a Reply

Get the Latest Update and news about around India or the world

Call Us On  Whatsapp
%d bloggers like this: