Drop Us An Email Any Enquiry Drop Us An Email info@e-webcareit.com
Call Us For Consultation Call Us For Consultation +91 9818666272

CBSE: वर्ष 1975 से 2004 तक की बोर्ड परीक्षा की मार्कशीट एक क्लिक पर मिलेगी, डिजिटल होने जा रहे दस्तावेज

Central Board of Secondary Education

CBSE: वर्ष 1975 से 2004 तक की बोर्ड परीक्षा की मार्कशीट एक क्लिक पर मिलेगी, डिजिटल होने जा रहे दस्तावेज

सीबीएसई जल्द ही वर्ष 1975 से 2004 तक के परीक्षा संबंधी रिकॉर्ड को डिजिटल करने जा रहा है। ऐसे लोगों को यह सब अब एक क्लिक पर ही घर बैठे प्राप्त हो जाएगा। अभी तक वर्ष 2004 से 2021 तक का दसवीं-बारहवीं का रिजल्ट डाटा ऑनलाइन उपलब्ध है।

2004 से पहले केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) से दसवीं और बारहवीं की परीक्षा देने वाले पूर्व छात्रों को अब अपनी मार्कशीट, माइग्रेशन सर्टिफिकेट और पास सर्टिफिकेट के लिए बोर्ड नहीं जाना होगा। ऐसे लोगों को अब यह सब घर बैठे एक क्लिक से मिल जाएगा।

सीबीएसई 1975 से 2004 तक रिकॉर्ड का डिजिटलीकरण करने जा रहा है

सीबीएसई जल्द ही वर्ष 1975 से 2004 तक के परीक्षा रिकॉर्ड को डिजिटाइज करने जा रहा है। अब तक, वर्ष 2004 से 2021 तक के दसवीं-बारहवीं कक्षा के परिणाम के आंकड़े ऑनलाइन उपलब्ध हैं।

अंक पत्र और दस्तावेज प्राप्त करने में समय की होगी बचत

सीबीएसई से परीक्षा पास करने वाले पूर्व छात्रों के साथ अक्सर ऐसा होता है कि उन्हें नौकरी या किसी अन्य काम के लिए दस्तावेजों की आवश्यकता होती है, लेकिन खो जाने के कारण वे दस्तावेज उपलब्ध नहीं करा पाते हैं। ऐसे में उन्हें बोर्ड से डुप्लीकेट दस्तावेजों को हटाना होगा। डुप्लिकेट दस्तावेज़ प्राप्त करने में अधिक समय लगता है।

ऐसे में बोर्ड ने छात्रों के हित में 1975 से 2004 तक के परीक्षा संबंधी दस्तावेज ऑनलाइन उपलब्ध कराने का फैसला किया है. यह सब डिजिलॉकर में उपलब्ध कराया जाएगा। इसके साथ ही बोर्ड द्वारा परीक्षा परिणाम से संबंधित दस्तावेजों को सुरक्षित रखने के लिए अकादमिक ब्लॉक चेन तकनीक का इस्तेमाल किया जाएगा।

सीबीएसई आईटी और प्रोजेक्ट डायरेक्टर अंतरिक्ष जौहरी के मुताबिक 2004 से 2021 के रिजल्ट के आंकड़े ऑनलाइन दिए गए हैं। अब 2004 से पहले के डेटा को ऑनलाइन करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। जल्द से जल्द यह सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी। डिजिलॉकर में वर्ष 1975 का रिकॉर्ड उपलब्ध कराया जाएगा।

बोर्ड ने 2004 में डिजिटल एकेडमिक रिपोजिटरी (रिजल्ट मंजूषा) तैयार किया था। जिसमें दसवीं से बारहवीं कक्षा के परिणाम डिजिटल रूप में होते हैं। अब 1975 के बाद दस्तावेज़ को डिजिटाइज़ करने का काम चल रहा है और इसे एक साल के समय में रिपॉजिटरी में जोड़ दिया जाएगा।


Leave a Reply

Get the Latest Update and news about around India or the world

Call Us On  Whatsapp
en English
X
%d bloggers like this: