Drop Us An Email Any Enquiry Drop Us An Email info@e-webcareit.com
Call Us For Consultation Call Us For Consultation +91 9818666272

Uttarakhand news: सीएम धामी ने अमित शाह को जोशीमठ के हालात की जानकारी दी, केंद्रीय आपदा राहत मांगी

Uttarakhand news

Uttarakhand news: सीएम धामी ने अमित शाह को जोशीमठ के हालात की जानकारी दी, केंद्रीय आपदा राहत मांगी

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने नई दिल्ली में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को जोशीमठ में भूस्खलन से उत्पन्न स्थिति के बारे में जानकारी दी और उनसे आपदा राहत के रूप में केंद्रीय सहायता का अनुरोध किया। शाह ने प्रभावितों को जरूरी मदद का आश्वासन दिया।

मुख्यमंत्री ने बुधवार को नई दिल्ली में केंद्रीय गृह मंत्री से मुलाकात की। उन्होंने गृह मंत्री को अवगत कराया कि जोशीमठ कस्बा बदरीनाथ का शीतकालीन धाम है। सामरिक, सांस्कृतिक और पर्यटन की दृष्टि से इसका बहुत महत्व है। शहर एक पुराने भूस्खलन से मलबे की मोटी परत के ऊपर बना है।

बड़े पैमाने पर पुनर्निर्माण की आवश्यकता होगी

मुख्यमंत्री ने कहा कि विभिन्न केंद्रीय तकनीकी संस्थानों से विचार-विमर्श के बाद शुरूआत में बताया गया कि क्षेत्र में बड़े पैमाने पर पुनर्निर्माण की जरूरत होगी. इसका फाइनल असेसमेंट टेक्निकल टेस्ट खत्म होने के बाद होगा।

ये काम जोशीमठ में होने हैं

तत्काल राहत शिविरों की व्यवस्था, प्री-फैब्रिकेटेड ट्रांजिट शेल्टर, स्थायी पुनर्वास, नए स्थानों का विकास, आवास निर्माण, बुनियादी सुविधाएं जैसे स्कूल, कॉलेज, जल निकासी, सीवरेज, जोशीमठ का पुनर्निर्माण, विस्तृत तकनीकी जांच, भूस्खलन की रोकथाम, पूर्ण जल निकासी व्यवस्था शहर में सीवर लाइन की व्यवस्था सभी घरों को सीवर लाइन से जोड़ने का कार्य किया जाना है। इन सभी सुविधाओं के विकास के लिए मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय गृह मंत्री केन्द्रीय सहाय से अनुरोध किया।

इमारतों में दरारों का पुराना इतिहास

उन्होंने बताया कि भूस्खलन और इमारतों में दरार का इतिहास पुराना है. लेकिन बीती 2 जनवरी की रात से ही इमारतों में बड़ी-बड़ी दरारें देखने को मिलीं. जेपी प्रोजेक्ट के नीचे 500 एलपीएम की नई धारा फूटने की शिकायत मिली है।

भूस्खलन प्रभावित क्षेत्र में 25 हजार की आबादी

उन्होंने कहा कि अब तक 25 प्रतिशत क्षेत्र भूस्खलन से प्रभावित है, जिसकी अनुमानित जनसंख्या 25,000 है। नगर पालिका क्षेत्र में लगभग 4500 पंजीकृत भवन हैं। उसमें से 849 भवनों में चौड़ी दरारें पाई गई हैं। 250 अस्थायी रूप से विस्थापित परिवार हैं। सर्वे का कार्य चल रहा है तथा उपरोक्त प्रभावित परिवारों एवं भवनों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है।

पुनर्वास के लिए पांच स्थान चिन्हित

पुनर्वास के लिए पांच स्थलों का चयन किया गया है। इनकी जियोलॉजिकल टेस्टिंग की जा रही है। जोशीमठ के कुल नौ वार्डों में से चार वार्ड पूरी तरह से प्रभावित हैं जबकि प्रभावित क्षेत्र में आठ केंद्रीय तकनीकी संस्थान वैज्ञानिक परीक्षण कर रहे हैं।

यह जानकारी गृह मंत्री को भी दी गई

  1. 16 से 22 अगस्त के बीच केंद्रीय संस्थानों की संयुक्त टीम ने स्थलीय निरीक्षण किया था.
  2. टीम ने भूस्खलन के संबंध में कुछ ठोस सिफारिशें कीं।
  3. 8 जनवरी को प्रधानमंत्री कार्यालय के कैबिनेट सचिव, एनडीएमए और अन्य केंद्रीय विभागों की समीक्षा की गई
  4. 9 जनवरी को केंद्रीय गृह मंत्रालय की एक उच्चाधिकार प्राप्त टीम और एनडीएमए के सदस्यों ने जोशीमठ प्रभावित क्षेत्र का दौरा किया।
  5. डीएम व गढ़वाल कमिश्नर व अन्य वरिष्ठ अधिकारी जोशीमठ क्षेत्र में डेरा डाले हुए हैं.

Leave a Reply

Latest News in hindi

Call Us On  Whatsapp