Drop Us An Email Any Enquiry Drop Us An Email info@e-webcareit.com
Call Us For Consultation Call Us For Consultation +91 9818666272

Gautam Adani को बड़ा झटका, Dow Jones से हटेंगे अडानी इंटरप्राइजेज के शेयर, NSE पर भी लगा बैन

gautam adani financial troubles fpo hindenburg research

Gautam Adani को बड़ा झटका, Dow Jones से हटेंगे अडानी इंटरप्राइजेज के शेयर, NSE पर भी लगा बैन

Adani-Hindenburg Saga News: हिंडनबर्ग रिसर्च रिपोर्ट के बाद अदानी ग्रुप को एक और बड़ा झटका लगा है। न्यूयॉर्क के शेयर बाजार डाउ जोंस ने बड़ा झटका देते हुए अडानी ग्रुप की कंपनी अडानी एंटरप्राइजेज को एसएंडपी डाउ जोंस इंडिसेज से हटाने का फैसला किया है।

शेयर बाजार की ओर से जारी नोट के मुताबिक अडानी एंटरप्राइजेज को डाउ जोंस सस्टेनेबिलिटी इंडेक्स से हटा दिया जाएगा. अडानी एंटरप्राइजेज को लेकर यह कार्रवाई स्टॉक मैनिपुलेशन और अकाउंटिंग फ्रॉड के आरोपों का विश्लेषण करने के बाद की गई है।

हिंडनबर्ग की रिपोर्ट के बाद लिया फैसला

इससे पहले अदाणी ग्रुप ने अदाणी इंटरप्राइजेज के एफपीओ को रद्द करने का फैसला किया था। इसके बाद न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज ने यह फैसला लिया। हिंडनबर्ग की रिपोर्ट सामने आने के बाद अडानी ग्रुप ने एफपीओ रद्द करने का यह बड़ा फैसला लिया। इस फैसले के बाद अदानी एंटरप्राइजेज लिमिटेड के चेयरमैन गौतम अदानी ने कहा था कि असाधारण परिस्थितियों के कारण कंपनी के निदेशक मंडल ने फैसला किया है कि एफपीओ के साथ आगे बढ़ना नैतिक रूप से सही नहीं होगा।

यह फैसला सात फरवरी से प्रभावी होगा

गौतम अडानी ने अपने बयान में कहा था कि निवेशकों का हित हमारे लिए सर्वोपरि है और उन्हें किसी संभावित नुकसान से बचाने के लिए निदेशक मंडल ने एफपीओ को वापस लेने का फैसला किया है. अमेरिकी बाजार का यह फैसला 7 फरवरी से प्रभावी होगा। अदानी एंटरप्राइजेज के शेयर में पिछले कुछ दिनों से भारी गिरावट आ रही है। गुरुवार के कारोबारी सत्र के दौरान एनएसई पर कंपनी का शेयर 55 प्रतिशत गिरकर 1,565 रुपये पर आ गया। शुक्रवार को भी यह शेयर 25 फीसदी की गिरावट के साथ 1174 रुपये के करीब पहुंच गया है।

दूसरी ओर, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) ने भी अदानी ग्रुप पर एक बड़ा फैसला लिया है। NSE ने 3 फरवरी, 2023 को फ्यूचर्स एंड ऑप्शंस (F&O) में ट्रेडिंग पर रोक लगा दी है। ग्रुप की तीन कंपनियों को पहले ही सर्विलांस पर रखा जा चुका है। इस कदम के बाद एनएसई की ओर से जारी बयान में कहा गया कि कंपनियों के शेयरों पर नजर रखी जाएगी। इस कदम के पीछे का मकसद शेयरों में भारी उतार-चढ़ाव को रोकना है।


Leave a Reply

Latest News in hindi

Call Us On  Whatsapp